नोटा बटन किसलिए?

-सुनील कुमार

"...नोटा के विषय में जहां कम मतदताओं को जानकारी है वहीं चुनाव आयोग इसकी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए निष्क्रय है। सामाजिक कार्यकर्तां इसकी जानकारी लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं तो अधिकारियों द्वारा नोटा के प्रचार की अनुमति नहीं दी जा रही है। नोटा का प्रचार करने से रोका जाना दर्शाता है कि चुनाव के दौरान अफसरशाही पूरी तरह से हावी हो जाती है।.…"

सुनील कुमार

सामाजिक संगठनों और एन.जी.द्वारा दायर की गई पीआईएल पर सनुवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 27  सितम्बर,2013 भारतीय मतदताओं को नोटा (इनमें सेकोई नहींका अधिकार दिया। कोर्ट ने कहा कि नकरात्मक वोट भी अभिव्यक्ति की आजादी का अनुच्छेद 19  के तहत संवैधानिक अधिकार है। कोर्ट ने चुनाव आयोग को सभी इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों में नोटा (इनमें से कोई नहींबटन लगाया जाये का निर्देश दिया। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद 5 राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव मेंइस बटन को लगाया गया जिसमें 15 लाख से अधिक लोगों ने नोटा बटन का इस्तेमाल किया। मध्यप्रदेश की 26, छत्तीसगढ़ की 15, राजस्थान की 11  दिल्ली की 4सीटों पर जीत हार का अंतर नोटा पर परे वोटों से कम था।

भारत के ग्रामीण इलाकों में साक्षरता दर कम होने के कारण बहुत से मतदताओं को नोटा बटन के विषय में जानकारी नहीं है। 16 वीं लोकसभा में पहली बार नोटा बटन का प्रयोग देश में होगा। कोई भी राजनीतिक पार्टी इसकी जानकारी मतदाता को देना भी नहीं चाहता वहीं चुनाव आयोग भी इसकी जानकारी मतदाताओं तक नहीं पहुंचाती है।  चुनाव आयोग मतदान करने के लिए प्रचार  एस एम एस तो करवा रहा है लेकिन नोटा को लेकर कोई जानकारी नहीं दे रहा है। यहां तक कि चुनाव अधिकारियों को भी इसके विषय में ट्रेनिंग नहीं दी जाती है जैसा कि विधानसभा चुनाव में दंतेवाड़ा के कट्टेकल्यान के मतदान अधिकारी मुन्ना रमयणम से जब बीबीसी संवादाता ने नोटा बटन में विषय बात की तो वे नोटा बटन को लेकर अनभिज्ञ थे। मुन्ना रमयण गोंडी भाषा भी जानते हैं जिससे वे वहां के मतदाताओं को आसानी से समझा सकते थे लेकिन जब उनको ही मालूम नहीं है तो वो मतदाता को कैसे बतायेंगे?
साभार bamulahija.com
नोटा के विषय में जहां कम मतदताओं को जानकारी है वहीं चुनाव आयोग इसकी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए निष्क्रय है। सामाजिक कार्यकर्तां इसकी जानकारी लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं तो अधिकारियों द्वारा नोटा के प्रचार की अनुमति नहीं दी जा रही है। नोटा का प्रचार करने से रोका जाना दर्शाता है कि चुनाव के दौरान अफसरशाही पुरी तरह से हावी हो जाती है। चुनाव आयोग भी मनमानी करने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई करने को तब तक तैयार नहीं होता जब तक मामला किसी राजनीतिक दल द्वारा  उठाया जाये। राजनीतिक दल नोटा के प्रावधान से नाखुश हैं यही कारण है कि वे भी नोटा के विषय में लोगों को नहीं बताना चाहते हैं और नोटा की प्रचार की अनुमति नहीं दिये जाने पर कोई भी राजनैतिक दल किसी प्रकार की टीका टिप्पणी करने को तैयार नहीं है।

मुलताई क्षेत्र से दो बार विधायक रहे डॉसुनीलम को विधानसभा चुनाव में नोटा के प्रचार की अनुमति यह कहकर प्रदान नही की कि वे प्रत्याशी या उसके एजेंट नहीं है।इस बार भी बैतुल निर्वाचन अधिकारी द्वारा अब तक नोटा के प्रचार के अनुमति प्रदान नहीं की गई है। डॉ सुनीलम ने चुनाव आयुक्त भारत सरकार को पत्र लिखकर नोटा के प्रचार की अनुमति  देने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई करने की मांग करते हुए कहा है कि गत विधानसभा चुनाव में भी मध्यप्रदेश में नोटा की प्रचार की अनुमतिनहीं दी गई थी। सुनीलम को छिंदवाड़ा के निर्वाचन अधिकारी द्वारा 25 मार्च, 2014 को अनुमति प्रदान की गई लेकिन 3 अप्रैल, 2014 को अनुमति निरस्त कर दी गई।उल्लेखनिय है कि गत विधानसभा चुनाव में छिंदवाड़ा में 39,235 मतदताओं ने नोटा का बटन दबाया था।

इसी तरह किसान संघर्ष समित के महामंत्री लीलाधर चौधरी ने 22 मार्च को देवास निर्वाचन अधिकारी से अनुमति मांगी थी जो आज तक नहीं दी गई है। सिद्धी में 4अप्रैल, 2014 कोसंयोजक उमेश तिवारी ने निर्वाचन अधिकारी सिद्धी से अनुमति मांगी थी लेकिन अनुमति प्रदान नहीं की गई जिसकी शिकायत राज्य निर्वाचनअधिकारी को उमेश तिवारी जी द्वारा 8 अप्रैल को की गई।  

डॉ सुनीलम द्वारा कई बार चुनाव आयोग को शिकयतें भेजने तथा सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता संजय पारिख द्वारा चुनाव आयुक्त को दो बार पत्र लिखे जाने केबावजूद अब तक चुनाव आयोग द्वारा नोटा के प्रचार की अनुमति  देने वाले अधिकारियों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई हैं। भारत की संविधान अभिव्यक्ति की स्वतंत्रतादेता है लेकिन अधिकारियों द्वारा संवैधानिक अधिकार का हनन खुलेआम किया जा रहा है।

अन्ना हजारे भी नोटा के मुद्दों को लेकर चुनाव आयोग से मिले थे तब आयुक्त एवं अन्य अधिकारियों ने उन्हें बताया था कि नोटा के प्रचार-प्रसार पर कोई रोक नहीं है. 

इसी तरह की जानकारी संजय पारिख जी को अधिकारियों द्वारा दी गई लेकिन नोटा का प्रचार प्रसार नहीं हो पाने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।

सुप्रीम कोर्ट ने जनभवनाओं को देखते हुए आदेश तो दे दिया कि नोटा बटन के रूप में मतदाताओं को विकल्प उपलब्ध कराया जाये। तो क्या यह विकल्प वोट प्रतिशत बढ़ाने के लिए हैजैसा कि नोटा में डाले गये वोट कोअवैध ही माना जाता है उस वोट की गिनती हटा कर ही जमानत जप्त करने का प्रावधान है। जब मतदाता सोचसमझ कर नोटा का बटन दबाया है तो उस वोट को अवैध कैसे माना जा रहा हैक्या इस तरह का प्रावधान व्यवस्था से रूष्ट मतदाताओं की प्रक्रिया को ही अवैध घोषित नहीं कर रहा हैक्या यह मतदाताओं का अपमान नहीं हैजिस तरह से चुनाव आयोग द्वारा नोटा में डाले गये मत को अवैध माना जाता है उससे तो यही लगता है कि नोटा कोई विकल्प है ही नहीं। नोटा वोट को अवैध माना जाना सुप्रीम कोर्ट की अवेहलना है या मतदाताओं को मतदान केन्द्र तक पहुंचाने का शिगुफा है?