कैमरे की नजर : नेपाल संविधान सभा चुनाव

आगामी मंगसिर ४ गते (यानी 19 नवम्बर ) को नेपाल अपनी संविधान सभा को बनाने के लिए दुबारा चुनाव करेगा. बहुत जटिल प्रश्नों पर राजनीतिक दलों के आपसी मतभेद के चलते अभी भी स्पष्ट नहीं हो पा रहा है कि नेपाल अबकी संविधान सभा के चुनाव के बाद भी संविधान बना पायेगा या नहीं. संविधान निर्माण की प्रक्रिया के जिन अंतर्विरोधों से नेपाल अभी जूझ रहा है, इनकी परिणति ही भविष्य के नेपाल का खाका खींचेंगी. नेपाल का चुनाव सिर्फ नेपाल ही नहीं बल्कि वैश्विक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है. सामंती युग के बाद वामपंथी उम्मीदों के साथ लोकतंत्र की तरफ करवट बदलता नेपाल, अपने भीतर के घटनाक्रमों की तरफ ध्यान खींचता है. praxis में हम नेपाल से जुड़े घटनाक्रमों पर लगातार अपडेट दे रहे हैं. यहाँ प्रस्तुत है नेपाल से रोहित जोशी का एक फोटो फीचर...

 
सरहद बांटता पत्थर : बॉडर पिलर नंबर 7
(बनबसा-गड्डाचौकी)

सरहद पार कराने वाला तांगा 

वेलकम टू नेपाल

नेपाल का पहला शहर 6 किमी दूर

पहले चुनावी पोस्टर से मुलाक़ात (गड्डा चौकी)
चुनाव आयोग की ओर से फोर कलर पोस्टर पर है प्रतिबन्ध



बाईक रैली माने शक्ति प्रदर्शन का नया तरीका







नेकपा एमाले की बैक रैली देखती महिला
नेपाल में यातायात पूरी तरह निजी हाथों में है
यातायात मजदूरों के संगठन की एक चौकी

संविधान सभा चुनाव : नई यात्रा की तयारी

नेपाल संविधान निर्माण : एक धुंधला रास्ता

संविधान सभा चुनाव : अपना लक पहन के चलो

महेन्द्रनगर

संतरे

खसों की भी दावेदारी
नेपाल में 120 से अधिक राजनीतिक पार्टियाँ चुनावी मैदान में हैं  

'राष्ट्रीय जन मोर्चा' की बाइक रैली और आम सभा
ये पार्टी एक मात्र पार्टी है जो नेपाल को संघीय गणराज्य बनाए जाने के खिलाफ है

नेपाल में नंबर प्लेट का रंग लाल है
और इसे देवनागरी में सफ़ेद रंग से ही लिखा गया है. शायद इसकी अनिवार्यता है.  

मधेशी जनाधिकार फोरम

कंचनपुर (महेन्द्रनगर) में नेपाली कांग्रेस के
वरिष्ठ नेता शेर बहादुर देउबा की प्रेस वार्ता

शेर बहादुर देउबा

पुलिस की चुनावी तैयारी के बारे में बताते एसपी कंचनपुर, राजेंद्र प्रसाद चौधरी

बाइक रैली के लिए तेल भराते बाइकर्स

एनेकपा माओवादी का आह्वान

पांच लीटर तेल के लिए सभी बाइकें सभी पार्टियों की रैली में घूमती हैं

एक चौक पर माओवादी झंडा

गोल घेरे में हसिया हथौड़ा माओवादियों का चुनाव निशान


उजाले की ओर

भूमिहीनों की रैली : भूमि सुधार की मांग

यह रैली बाइकों में नहीं है

ज़िन्दगी का मुकद्दर suffer दर सफ़र

उमींद की बाईं करवट

पुलिस तैनात है

नोट गुनना

हुजूर को सामान छुट्यो की?

निर्वाचन आयोग के जागरूकता अभियान

लोकतंत्र के ऑब्जर्वर

नेकपा माओवादी के बंद के पहले की शाम में पुलिस की तैनाती